मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 68, सितंबर(प्रथम), 2019

देख, भाई देख !

दिनेश चन्द्र पुरोहित

सुबह-सुबह गली में इतना शोर-गुल मचा कि, बेचारे दीप को लिहाफ़ हटाकर बिस्तर छोड़ना बाहर आना पड़ा ! गली में, मकानों की खिड़कियाँ और दरवाज़े खुले नज़र आ रहे थे ! गली के लोग अपने मकान के बाहर खड़े होकर, सेनेटरी लाइन साफ़ करने वाले सफ़ाई कर्मचारी से बहस करते जा रहे थे ! बात यह थी कि, मकानों के शौचालयों से निकली सेनेटरी लाइनों में प्लास्टिक की थैलियाँ फंस जाने से सेनेटरी लाइन अवरुद्ध हो गयी ! यही कारण था, सेनेटरी पॉट में खड़ा सफ़ाई कर्मी, लम्बे बांस से मैले और पोलिथीन से डटी हुई लाइनों को साफ़ करता जा रहा था ! वह बेचारा, उस मैले में खड़ा क्या था ? उसका तो पूरा बदन, पसीने से तर-बतर था ! उस बेचारे को क्या पत्ता, उसके कपड़ों में ठौड़-ठौड़ मैला और गन्दगी लग चुकी थी ! बेचारे सफ़ाई कर्मी ने गली वालों के सामने एक छोटी सी मांग क्या रख दी, सभी गली वाले भड़क उठे ! उसकी छोटी सी मांग यह थी ‘हर घर से पच्चास रुपये मिल जाए, तो उनकी टीम चाय-नास्ता ले लेगी !’ यहाँ बात पैसे देने की थी, इस कारण गली वाले भड़क गए ! यों तो ये लोग खड़े-खड़े १०० रुपये का पान खाकर थूक दिया करते, मगर इस सेवा करने वाले सफ़ाई कर्मचारी को मात्र पच्चास रुपये देना इन लोगों को मंजूर नहीं..? वे सभी वहां खड़े-खड़े, उससे बहस करते जा रहे थे ! कोई कुछ कहता, तो कोई कुछ और ! मगर, जेब ढ़ीली करने वाला कोई नज़र नहीं आया ?

तभी दीप को सामने के मकान में रहने वाले अमर चंद नज़र आये, वे बार-बार गुस्से से चीख़कर उस बेचारे की आवाज़ को दबाते जा रहे थे ! अब सारा माज़रा दीप को समझ में आ गया, यहाँ सभी खड़े गली वाले जेब से एक पैसा ख़र्च करने वाले नहीं ! फिर क्या ? दीप अब चुप बैठने वाला नहीं ! उसने अमर चंद को समझाते हुए कहा “भाई अमर चंद, काहे झगड़ा बढ़ाते जा रहे हैं आप ? चलिए, मैं अकेला इस सफ़ाई-कार्य को पूरा करवाने के लिए पांच हज़ार आपको दे सकता हूँ ! मगर शर्त यह है, आप सबको अपने हाथ से, इस सफ़ाई कार्य को पूरा करना होगा ! कहिये, आप सभी गली वाले इस काम को करने के लिए तैयार हैं ?” सुनकर, सभी चुप हो गए, और एक-दूसरे का मुंह देखने लगे !

तब दीप की आवाज़ गली में गूंज़ उठी “आप सभी कचरा डालकर, गन्दी फैलाते हैं ! मगर आप में ऐसा कोई बन्दा नहीं, जो जाकर कचरादान में कचरा डालकर आता हो ! जानते हैं, आप ? सौ हाथ कचरा डालते हैं, कचरा उठाने के लिए सफ़ाई कार्मिक के केवल दो हाथ आगे आते हैं ! फिर ये लोग मैला उठाने का अस्वच्छ कार्य इसलिए करते हैं, ताकि आप स्वस्थ बने रहें ! बोलो, क्या आप यह कार्य कर सकते हैं ? नहीं कर सकते, तो कीजिये इन लोगों की मेहनत का सही भुगतान !


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें