मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 68, सितंबर(प्रथम), 2019

जिस दिन का होता सबको इंतजार

रौली मिश्रा

                  
जिस दिन का होता सबको इंतजार
जिसके लिए हम करते प्रति वर्ष  इंतजार,
आ गया लो हमारा त्योहार,
आओ मचाएँ  शोरगुल,
भारत मां की आज जय बोल।।
वीरों को सलामी दें,
उनको नयी रस्में कसमें दें,
भारत मां के झण्डे को मन में समाये
अपने तिरंगे को आसमान तक लहरायेँ,
आओ उनके स्वागत में बजायेँ ढोल,
भारत माता की आज जय बोल।।
हर जन्म में भारत माता के पुत्र पुत्री बनें,
हर जन्म में मां के तिरंगे को ऊंचा करें,
भारत माता की धरती को रंग दें,
मां के सपने को पूरा कर दें,
उनकी मन की बातें बताऊँ बोल बोल,
भारत माता की आज जय बोल।
देश में अमन शांति रहे,
देश में सब भारतवासी एक रहें,
धरती पर चमन बरसे,
कोई भूखा प्यासा न तरसे
यही हैं मेरी भारत माता के बोल,
भारत मां की आज जय बोल।।।2
			

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें