मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 68, सितंबर(प्रथम), 2019

रक्षा सूत्र

निशा नंदिनी भारतीय

                 
पर्व यह रक्षा सूत्र का 
कहलाता रक्षा बंधन 
कोमल पवित्र पावन सा
ये रिश्ता बहन भाई का 

बाँधकर रक्षा सूत्र भाई के 
रिश्ते को मजबूत बनाएं 
एक दूजे पर विश्वास करें 
हम कभी नहीं घबराएं ।

बाँध रक्षा सूत्र वृक्षों के 
करें प्रकृति का संरक्षण 
ये हैं सच्चे मित्र हमारे 
करें न हम इनका भक्षण।

बाँधें रक्षा सूत्र नदियों के 
करें न हम इनको मैला 
टिका है जल पर ही इनके
दुनिया का यह सुंदर मेला।

बाँधें सूत्र एक दूजे को 
प्रेम भ्रातृत्व को बढ़ाएं
सब साथ हो सुख दुख में 
आपस में विश्वास दिलाएं।

माँ से पहले भारत माँ है 
हर मानव को यह ज्ञान हो 
भारत माँ के सूत्र बाँधकर 
उसकी रक्षा का ध्यान हो। 
   

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें