मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 5, अंक 93,सितम्बर(द्वितीय), 2020

आशा के दीप जलाओ तो

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

जलने को परवाना आतुर, आशा के दीप जलाओ तो। कब से बैठा प्यासा चातक, गगरी से जल छलकाओ तो।। -- मधुवन में महक समाई है, कलियों में यौवन सा छाया, मस्ती में दीवाना होकर, भँवरा उपवन में मँडराया, मन झूम रहा होकर व्याकुल, तुम पंखुरिया फैलाओ तो। कब से बैठा प्यासा चातक, गगरी से जल छलकाओ तो।। -- मधुमक्खी भीने-भीने स्वर में, सुन्दर राग सुनाती है, सुन्दर पंखों वाली तितली भी, आस लगाए आती है, सूरज की किरणें कहती है, कलियों खुलकर मुस्काओ तो। कब से बैठा प्यासा चातक, गगरी से जल छलकाओ तो।। -- चाहे मत दो मधु का कणभर, पर आमन्त्रण तो दे दो, पहचानापन विस्मृत करके, इक मौन-निमन्त्रण तो दे दो, काली घनघोर घटाओं में, बिजली बन कर आ जाओ तो। कब से बैठा प्यासा चातक, गगरी से जल छलकाओ तो।।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें