साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 5, अंक 92,सितम्बर(प्रथम), 2020

परिचय

डॉ० अनिल चड्डा ‘समर्थ’

नाम : डॉ० अनिल चड्डा ‘समर्थ’ जन्मतिथि : 18 अक्तूबर, 1952 शिक्षा : बी.एस.सी., एम.ए.(हिन्दी), पी.एचडी. भारत सरकार के संचार मंत्रालय से 2012 में निदेशक के पद से सेवानिवृत। 1972 में विज्ञान में स्नातकीय उपाधि प्राप्त करके संघ लोक सेवा में कार्यरत हुये। अपने कार्यकाल में विभिन्न पदों पर पदोन्नति पाते हुये विभिन्न मंत्रालयों में सेवा की। भारत सरकार की सेवा में रहते हुये बचपन से लगी काव्य रचना की धुन की साधना करते हुये 1986 में हिन्दी में एम. ए. की, फिर 1993 में पी.एचडी. पूरी की। इस बीच अनेक कविताओं की रचना की, जिन्हें इनके ब्लागों https://anilchadah.blogspot.com, https://anubhutiyan.blogspot.in पर पढ़ा जा सकता है। इनकी रचनायें साहित्यकुञ्ज, शब्दकार एवं हिन्दयुग्म जैसी ई-पत्रिकाओं के अतिरिक्त सरिता, मुक्ता , इत्यादि पत्रिकाओं में भी प्रकाशित होती रही हैं । हिंदी को लोकप्रिय बनाने के लिये और उन साहित्यकारों को, जो साहित्यरचना में योगदान करने के बावजूद अ नजान ही रह जाते हैं, एक मंच देने के लिये उन्होंने एक हिंदी वेबपत्रिका साहित्यासुधा प्रारम्भ की है। इनका कविता संग्रह ‘कुछ ज्ञात कुछ अज्ञात’ pustakbazar.com पर, ‘देश के बच्चे – मेरी कवितायें’ pothi.com पर एवं https://kdp.amazon.com/en_US/bookshelf पर (i) मेरे जीवन की पाँच कहानियाँ, (ii) हृदय की कलम से (iii) मन की बातें जग भी जाने (iv) होनहार हैं हम बच्चे उपलब्ध हैं। हिन्दी को लोकप्रिय बनाने के लिए और अपने जैसे अनेक हिन्दी रचनाकारों को मंच देने के लिए इन्होंने अगस्त, 1996 से ऑनलाइन साहित्यिक पत्रिका ‘साहित्यसुधा’ की शुरुआत की। ईमेल : anilkr112@gmail.com,sahityasudha2016@gmail.com