मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 71, अक्टूबर(द्वितीय), 2019

आगरा के साहित्यकार डॉ दिग्विजय शर्मा 'विश्वम्भर दयाल
स्मृति साहित्य सम्मान- 2019' से सम्मानित ।

हरियाणा की प्रगतिशील साहित्यिक संस्था 'निर्मला स्मृति साहित्यिक समिति' चरखी दादरी (हरियाणा) की साहित्य को समर्पित संस्था द्वारा हिंदी उत्सव के अवसर पर 29 सितंबर 2019 को अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन एवं सम्मान समारोह का आयोजन सरस्वती विद्या विहार सभागार में किया गया। यह हरियाणा के शहर चरखी दादरी में एक भव्य ऐतिहासिक यादगार आयोजन किया गया। आपको बता दें कि डॉ शर्मा हिंदी की सेवा में लंबे समय से जुड़े हैं और सभी विधाओं में लिखते आ रहे हैं इनके साहित्यिक योगदान के लिए अनेक संस्थाएं इनको सम्मानित कर चुकी हैं। समिति के अध्यक्ष शिक्षाविद डॉ अशोक कुमार मंगलेश ने अवगत कराया है कि समिति के साहित्यिक अनुप्रेरक प्रवासी भारत रत्न महाकवि प्रोफ़ेसर हरिशंकर आदेश कनाडा से अनुप्रेरित होकर इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया। संस्था की उपाध्यक्ष डॉ सविता शर्मा, संरक्षक डॉ कैलाश चंद शर्मा 'शंकी' द्वारा संरक्षक अतिथि डॉ रामनिवास मानव व मुख्य अतिथि प्रोफ़ेसर रूप देवगुण, विशिष्ट अतिथि प्रोफेसर यशवीर सिंह, तथा उद्घाटनकर्ता अतिथि हरियाणा सरकार हाउसिंग बोर्ड के चेयरमैन श्री संदीप जोशी रोहतक के प्रो राम नरेश मिश्र, राजकुमार निजात, डॉ नरेश सिहाग रोशनी शर्मा , डॉ राजकुमार राजन, डॉ बिजेन्द्र प्रताप, डॉ सिकन्दर लाल, दिनेश शास्त्री, नीलम व साथ ही चरखी दादरी व देश के कोने कोने से आये सभी साहित्यकार उपस्थित हुए। सभी ने हिंदी उत्सव के अवसर पर अपने व्याख्यान प्रस्तुत किये , कविता पाठ किया गया। कार्यक्रम में कई प्रतिष्ठित साहित्यकारों की नवीन प्रकाशित पुस्तकों का लोकार्पण किया गया। ततपश्चात कार्यक्रम महान साहित्यिक विभूतियों की स्मृति में देश के कोने - कोने से आये 101 साहित्यकारों को सम्मानित किया गया है जिसमें आगरा से साहित्यकार डॉ दिग्विजय शर्मा को इनकी उत्कृष्ट लेखनी व रचनाकर्म के लिए इस वर्ष का 'विश्वम्भर दयाल स्मृति साहित्य सम्मान -2019' से सम्मानित किया गया, मुकेश ऋषि वर्मा को युवा साहित्यकार से समानित किया गया। डॉ शर्मा व मुकेश को इस सम्मान के लिए सभी साहित्यकारों ने बधाई व शुभकामनाएं प्रदान की कहा कि दोनों ने ही आगरा जनपद का नाम रोशन किया है ।


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें