मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 71, अक्टूबर(द्वितीय), 2019

शरद पूर्णिमा मनायेंगे

प्रिया देवांगन "प्रियू"

शरद पूर्णिमा मनायेगे, घर में खीर बनाएंगे। अमृत बरसेगा खीर में, मिल बांट कर खाएंगे।। चाँद की रौशनी से , सारा जग जगमगायेगा। सोलह कला से पूर्ण हुआ ,अमृत वह बरसायेगा।। जो जो अमृत खायेगा , बीमारी छू न पायेगा। शीत बरसेगा धरती पर ,मोती सा बन जायेगा।। जब बरसेगा ओस की बूंदें, ठंडी की लहरें होगी। धुंधला हो जाएगा आसमा , गीत गायेगा कोई जोगी ।। ताजा ताजा पवन चलेगा , वातावरण शुद्ध हो जायेगा । स्वस्थ रहेंगे मनुष्य सारे , हर पल खुशी मनायेगा ।।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें