मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 71, अक्टूबर(द्वितीय), 2019

मेरा गाँव

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

कभी बड़ा खूबसूरत था मेरा गाँव मिलती थी बरगद वाली ठण्डी छाँव शहरों ने सीमा जब से तोड़ी गाँव की पगड़ंडियां हुई चौड़ी लग गई हवा शहर की गाँव को, तो हर चीज का होने लगा मोलभाव हृदय बने मशीनी दया रही न तनिक ऑनलाइन रिस्तों में मिली न महक हरे - भरे खेत सब हो गये बंजर कैसा चला गाँव पर शहरी खंजर सर्वत्र खड़ा कचरे का पहाड़ मिले धरती के ऑचल में विनाश पले कभी बड़ा खूबसूरत था मेरा गाँव अब पहले जैसा नहीं रहा मेरा गाँव

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें