Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 47, अक्टूबर(द्वितीय) , 2018


विजयादशमी


डॉ.प्रमोद सोनवानी पुष्प


                   
विजय हुए थे रामजी, 
अतुलित राक्षसी शक्ति से।
तब से मनाते हैं विजयादशमी, 
भारतवासी भक्ति से।।1।।

विजयादशमी के दिन हम सब, 
नीलकंठ दर्शन करते हैं।
बांटते हैं जी सोनपत्तियां, 
सबको गले लगाते हैं।।2।।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें