मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 70, अक्टूबर(प्रथम), 2019

वही कहो जो जानते हो

जयपुर के गीता बजाज टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज और सीनियर सैकंडरी स्कूल के हज़ारों बच्चों के बीच हिंदी दिवस समारोह एक खास संदेश के साथ मनाया गया।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि श्री प्रबोध कुमार गोविल ने कहा कि ज़माना आज "बयानों, भाषणों और कथनों" के सहारे जड़ होकर खड़ा है। उन्होंने बच्चों से कहा कि तौल मोल कर बोलना सीखो। वही कहो जो जानते हो। उन्होंने एक कहानी के माध्यम से अपना संदेश दिया। एक राजा के प्रिय सुरखाब पक्षी को एक शिकारी ने मार डाला। जब उसे सजा सुनाने के लिए दरबार में लाया गया तो उसने अपने बचाव में कहा कि इस हत्या के लिए राज्य का मंत्री जिम्मेदार है, जिसने कहा था कि इंसान को 84 लाख योनियों के बाद मानव जीवन मिलता है। मैंने तो सिर्फ एक सुंदर पक्षी को जल्दी मानव बनाने के लिए इसका ये जन्म खत्म किया। राजा ने शिकारी को निर्दोष मानते हुए मंत्री को आदेश दिया कि वो कल तक ये बताए कि इस पक्षी की कितनी योनियां बीत चुकी हैं अन्यथा उसे सज़ा मिलेगी। मंत्री तो निरुत्तर हो गया पर उसकी पत्नी ने इस प्रश्न का सटीक उत्तर दिया।

मंत्री ने पत्नी से पूछा कि उसने राजा को सही उत्तर कैसे दिया? वो बोली- तुमने अपने भाषण में केवल शब्दों का जाल बिछाया था, मैंने शब्दों की आरी से ही उसे काट दिया। मंत्री ने सोचा, जान बची तो लाखों पाए। बच्चों का आह्वान किया गया कि वे बेवजह बैठे बैठे न फंसें।

समारोह की अध्यक्षता रिटायर्ड चीफ़ जस्टिस एन के जैन ने की। कार्यक्रम में सभी का स्वागत प्रधानाचार्य डॉ संध्या अग्रवाल ने किया व आभार प्रदर्शन निदेशक श्री एन एम शर्मा ने किया।

बच्चों ने इस अवसर पर कई सारगर्भित प्रस्तुतियां दीं। गांधी जी के 150 वे जन्मोत्सव की कड़ी में आयोजित इस कार्यक्रम में गांधी को याद किया गया।

- हिमांशु जोनवाल
बरकत नगर,
जयपुर।


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें