मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 70, अक्टूबर(प्रथम), 2019

देवी धरती की

अवनीश सिंह चौहान

दूब देख लगता यह सच्ची कामगार धरती की मेड़ों को साध रही है खेतों को बाँध रही है कटी-फटी भू को अपनी- ही जड़ से नाथ रही है कोख हरी करती है सूनी पड़ी हुई परती की दबकर खुद तलवों से यह तलवों को गुदगुदा रही ग्रास दुधरू गैया का परस रहा है दूध-दही बीज बिना उगती है देवी है देवी धरती की


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें