Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 49, नवम्बर(द्वितीय) , 2018



चाँद निकल आया है


सलिल सरोज


                           
मेरा चाँद निकल आया है,ज़मीं पे रोशनी हो गई
उस आसमाँ के चाँद की जरूरत नहीं,इक्तिला करो

गर फिर भी है कुछ खुशफहमी उस चाँद को तो
मेरे चाँद के पाकीज़ा तबस्सुम से  मुकाबला करो

हम दिखाएँगे तुम्हें इन सितारों की सब बदमाशियाँ
शाम ढ़लते ही पुरानी गली में हम से मिला करो

ख़त लिखने का चलन नहीं तो क्या हुआ
अपनी बोलती आँखों से ही इश्क़ का सिलसिला करो

मैं ठण्डी हवा की दुशाला ओढ़े तकता रहूँ तुम्हें
तुम किसी बाग में मोगरे की तरह हिला करो
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें