Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 49, नवम्बर(द्वितीय) , 2018



गाँवों का उत्थान


डॉ डी एम मिश्र


                   
गाँवों का उत्थान देखकर आया हूँ					
मुखिया का दालान देखकर आया हूँ

मनरेगा की कहाँ मजूरी चली गई
सुखिया को हैरान देखकर आया हूँ

कागज़ पर पूरा पानी है नहरों में
सूख गया जो धान देखकर आया हूँ

कल तक टूटी छान न थी अब पक्का है
नया-नया परधान देखकर आया हूँ

लछमिनिया थी चुनी गयी परधान मगर
उसका ‘पती-प्रधान’ देखकर आया हूँ

बंगले के अन्दर में जाने क्या होगा
अभी तो केवल लॉन देखकर आया हूँ

रोज सदन में गाँव पे चर्चा होती है      
‘मेरा देश महान’ देखकर आया हूँ

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें