Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 49, नवम्बर(द्वितीय) , 2018



आओ नया भारत बनाएं


मेराज रज़ा


                         
तिरंगा लहराया गगन में,
फूल खिला है आज चमन में!

आओं खुशी के गीत गाएं,
मिल-जुल पावन पर्व मनाएं!

बनें एक दूजे का सहारा,
मजबूत हुए भाईचारा!

नित नई परिभाषाएं गढ़ें,
हरपल-हरसमय आगे बढ़ें!

अमन-मुहब्बत एकता लाएं,
आओ नया भारत बनाएं!
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें