Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 49, नवम्बर(द्वितीय) , 2018



प्यारा भारत देश हमारा


मेराज रज़ा


                         
प्यारा भारत देश हमारा
है मुझको प्राणों से प्यारा!
इसकी हिफाजत के लिए है
अर्पित अपना जीवन सारा!

गंगा-यमुना नदिया इसकी
वो हिमालय पहरेदार है!
रंग-बिरंगे फूल खिले है ं
बाग-बगिया भी गुलजार है!

चीन, जापान, अमेरिका भी
नहीं है भारत देश जैसा!
जिन्हें देश से न मुहब्बत है
बोलो वह मानव है कैसा!
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें