मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 72, नवंबर(प्रथम), 2019

नशा छोड़ो

महेन्द्र देवांगन माटी

नशा नाश का जड़ है प्यारे , इसको मत अपनाओ । स्वस्थ अगर रहना चाहो तो , सादा भोजन खाओ ।। इज्जत पैसा दोनों होते , एक साथ बर्बादी । रोज लड़ाई झगड़ा होते , बनो नहीं तुम आदी ।। टूटे घर परिवार सभी से , रिश्ते नाते छोड़े । ऐसी आदत वालो से अब , काहे रिश्ता जोड़े ।। खाने को लाले पड़ जाते , बच्चे भूखे सोते । जीना मुश्किल हो जाता है , कलप कलप कर रोते ।। मद्यपान अब करना छोड़ो, सादगी को अपनाओ । मिट जायेगा क्लेश कलह सब , घर में खुशियाँ लाओ ।।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें