Sahityasudha view

साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 48, नवम्बर(प्रथम) , 2018



परिचय

शामिख फ़राज़

नाम: शामिख फ़राज़


बीसवीं सदी में जन्मे शामिख फ़राज़ उन खुशनसीब लोगों में से हैं जिन्होंने अपनी ज़िन्दगी में दो सदियों का संगम देखा. बचपन बीसवीं सदी में बीता और जवान इक्कीसवीं सदी में हुए, पैदाइश, बांसुरी के लिए मशहूर उत्तर प्रदेश के पीलीभीत ज़िले में. हिंदी लिटरेचर को पढ़ना और लिखने की कोशिश करना इनका शगल है। फराज ने कंप्यूटर इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की और अपने कैरियर की शुरुआत एक इंजीनियरिंग लेक्चरर के रूप में की.शुरू से ही लिटरेचर में दिलचस्पी होने की वजह से हिंदी और विदेशी लेखकों लियो टअलसटॉय, अन्तोन चेखव, मैक्सिम गोर्की, ओ हेनरी को भी पढ़ा. धीरे-धीरे शब्दों को जोड़कर लिखने की शुरुआत की. कभी शब्द जोड़कर किसी अखबार के लिए लिखा तो कभी इंटरनेट पर. फिर थोड़े से शब्द इकट्ठा कर अपना ब्लॉग सलाम ज़िंदादिली लिखा तो कभी मैगजीन के लिए लिखा. नज़्म, ग़ज़ल, आर्टिकल और तकनीकी स्तंभ लिखना इन का शौक है. इनकी रचनाएँ हिंदी अख़बारों के साथ साथ अनुभूति, साहित्य कुञ्ज, सृजन गाथा, लेखिनी, रचनाकर, हिंद-युग्म, हिन्दी नेस्ट, गवाक्ष, हिन्दी पुष्प, स्वर्ग विभा, हिन्दी मिडिया पत्रिकाओं में में भी मौजूद हैं. कुछ तकनीकी मैगजीन के तकनीकी स्तंभकार भी रह चुके हैं। ए पी जे अब्दुल कलाम के जीवन पर लिखी किताब "ए पी जे अब्दुल कलाम-- A Man Beyond The Orbit" और एक ग़ज़ल संग्रह "तुम" प्रकाशित।
Email:shamikh.faraz@gmail.com


कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें