Sahityasudha view

साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 48, नवम्बर(प्रथम) , 2018



परिचय

राज वीर सिंह

नाम: राज वीर सिंह
तरौंदा, कानपुर देहात
उत्तर प्रदेश


संक्षिप्त परिचय -
कवि/लेखक साहित्य संगम संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं । आप संस्कृत और हिंदी अध्यपन के साथ-साथ साहित्य की हर विधा में सर्जन करते हैं । आपकी तीन पुस्तकें साहित्यमेध, पितृयान से देवयान, ऋचा प्रकाशित हो चुकी हैंं । चौथी काव्यकृति 'छंदमाला मुदिता' प्रकाशनाधीन है । आप सवेरा मासिक पत्रिका के संरक्षक एवं वैदिक राष्ट्र मासिक पत्रिका के कार्यकारी संपादक हैं । इसके साथ-साथ छंदेष्टि, आह्लाद, ग़ज़ल-गुञ्जन अविचल प्रवाह आदि ई मासिक पत्रिकाएँ आपके दिक्दर्शन में दो वर्षों से नियमित प्रकाशित हो रही हैं । साहित्य संगम संस्थान प्रकाशन की लगभग पचास पुस्तकों का सकुशल संपादन किया है । साहित्यकार को बघेली साहित्य परिषद से सारस्वत सम्मान, नव्याकाव्य संगम से श्रेष्ठ रचनाकार और श्रेष्ठ संचालक का, नूतन साहित्य कुंज से श्रेष्ठ रचनाकार सहित संयोजक का, साहित्य संगम संस्थान से स्तंभ सम्मान, समीक्षाधीश सम्मान, अभ्युदय सम्मान आदि अनेकों साहित्यिक सम्मान प्राप्त हो चुके हैं । शिक्षा के क्षेत्र में भी श्रेष्ठ शिविर शिक्षक, श्रेष्ठ हिंदी प्रशिक्षक आदिक सैकड़ों प्रमाणपत्र प्राप्त हो चुके हैं ।
Email: vishvsahityasangam@gmail.com


कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें