मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 85, मई(द्वितीय), 2020

उम्मीद

उषा शर्मा 'मन'

उन्नति के शिखर में आपका भी नाम होगा, जग जीवन में आदर के साथ सम्मान होगा । मुश्किल है पर नामुमकिन भी नही, मंजिल दूर खड़ी है पर इतनी भी नहीं। आप आगे बढ़ते चलो, आगे चलते चलो, नई उमंग नए हौसलें के साथ बढ़ते चलो । मेहनत के पौधे का वृक्ष रुप जरूर लेते है, दृढ़-हौंसलों से सब कुछ पा सकते है।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें