मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 3, अंक 60, मई(प्रथम), 2019

बेवफा पर प्यार आया है

आलोक कौशिक

आज लौटकर मिलने मुझसे मेरा यार आया है शायद फिर से जीवन में उसके अंध्यार आया है बचकर रहना अबकी बार चुनाव के मौसम में मीठी बातों से लुभाने तुम्हें रंगासियार आया है बहुत प्यार करता है मुझसे मेरा पड़ोसी मुझे यह समझाने लेकर वो हथियार आया है गले मिलकर गले पड़ना चाहता है दुश्मन लगता है अबकी बार बनके होशियार आया है मेरे मुल्क की और मेरी आदतें भी हैं एक जैसी मुझे भी फिर से उसी बेवफा पर प्यार आया है


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें