मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 3, अंक 60, मई(प्रथम), 2019

लोकतंत्र में मतदाता की भूमिका

शम्भु प्रसाद भट्ट "स्नेहिल"

कहते हैं कि "लोकतंत्रीय शासन व्यवस्था अंतर्गत मतदाता देश का भाग्य विधाता होता है।" मतदाता के मत की शक्ति का आंकलन तब अत्यंत महत्वपूर्ण हो जाता है, जब किसी प्रत्याशी को एक-एक मत की प्राप्ति या अप्राप्ति के कारण जीत या हार का सामना करना पड़ता है। इसलिए कहा जा सकता है कि देश का मतदाता देश की किस्मत को सुधार या बिगाड़ सकता है, क्योंकि वह अपने मत के प्रभाव से किसी योग्य व्यक्ति या देश के प्रति सच्चे मन से समर्पित राजनीतिक पार्टी को जीत दिला कर देश को विकास की धारा में अग्रसर कर सकता है या किसी अयोग्य प्रत्याशी या स्वार्थपरक राजनीति करने वाली राजनीतिक पार्टी को जीत दिलाकर देश के विकास के पहिये को रूकवा सकता है।

देश का प्रत्येक मतदाता लोकतंत्र को बनाये रखने हेतु उतना ही महत्वपूर्ण है, जितना किसी प्राणी को जीने के लिए अन्न की। वर्तमान में भी इन्हीं सब विचारों को ध्यान में रखकर मतदाता को देश व समाज के प्रति अपने दायित्व को समझते हुए अपने मत का उचित प्रयोग करना होगा। अतीत के अनुभवों से स्पष्ट है कि मतदाता ने जब-जब भी गंभीरतापूर्वक सोच विचार के पश्चात् निर्वाचन में अपने मत का प्रयोग किया, तो निश्चित ही एक ऐसा राजनीतिक दल देश की सत्ता में सत्ताशीन हुआ, जिसने देश के अंदर विकास की गंगा प्रवाहित तो की ही, साथ ही देश को विश्व के नक्शे में अत्यंत महत्वपूर्ण व सम्मानजनक स्थान भी दिलाया। इसके विपरीत जब-जब मतदाता ने अपने व्यक्तिगत क्षणिक स्वार्थ के वश होकर मत का प्रयोग किया, तो उसका खामियाजा देश-प्रदेश को कई प्रकार की विपरीत परिस्थितियों के रूप में दृष्टिगत हुए।

अतः मतदाताओं से इस लेख के माध्यम से अपील करने के साथ-साथ अपेक्षा करता हूँ कि वे अपने मत का आगामी लोकसभा चुनाव में अवश्य प्रयोग करें, क्योंकि यह लोकतंत्र का महापर्व है, जिसमें हरेक मतदाता की वही अहमियत होती है, जो सैकड़ों, लाखों, करोड़ों तथा अरबों मतदाताओं की होती है। आपका एक मत लोकतंत्र के इस महायज्ञ में लोकतंत्र की सफलता के लिए दी गई महान् आहुति होगी। इसलिए अवश्य मत का प्रयोग की जाय, लेकिन यह भी ध्यान रखना आवश्यक है कि कौन योग्य प्रत्याशी है अथवा कौन सी ऐसी राजनीतिक पार्टी है, जो सच्चे मन से देश को सुरक्षित, सुदृढ़ तथा समृद्धशाली बनाकर विकास की धारा को आगे बढ़ाने का काम कर सकती है। यह आंकलन देश व समाज हित में परम आवश्यक है। यही देश के नागरिकों की देश के प्रति सच्ची निष्ठा भी मानी जायेगी।


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें