मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 3, अंक 60, मई(प्रथम), 2019

नन्हे मासूम सपने

सुदर्शन खन्ना

‘पिंकी ... पिंकी ... इधर आ ...’ सपना चिल्लाई। ‘क्या है ... क्यों चिल्ला रही है ... क्या हो गया ?’ लटकते हुए चुम्बक से सड़क पर गिरे हुए लोहे के कबाड़ को चिपकाते हुए और फिर उसे अपने कंधे से लटकते हुए मैले-कुचैले झोले में डालते हुए पिंकी सपना के पास आ गई थी। सपना साड़ियों के एक बहुत बड़े शोरूम के बाहर शो-विंडो में खड़े लड़कियों के बुतों को निहार रही थी जो बहुत ही खूबसूरती से सजाये गये थे। उन पर बहुत सुन्दर सूट और साड़ियां फब रहे थे। ‘क्या हुआ ... क्यों बुलाया है ... खड़ी क्यों है ... काम नहीं करना ...?’ पिंकी ने एक साथ कई सवाल दाग दिए थे। उधर सपना उन बुतों के देखते देखते बुत बन गई थी। वह एकटक उन बुतों को निहारे जा रही थी। ‘क्या हो गया है तुझे ... पहले तो चीख चीख कर बुलाया और अब आ गई हूं तो जवाब नहीं दे रही’ कहते हुए पिंकी ने बुत बन के खड़ी सपना को जोर से झंझोड़ा। बुत बनी सपना में जैसे जान आई ‘पिंकी देख तो सही ... कितनी सुन्दर लग रही हैं ये सब।’ ‘हांऽऽऽ ... ओ री दैया ... क्या गजब ढा रही हैं ... अरे ये तो अपसराएं हैं ... लगता है जैसे अभी बोल पड़ेंगी’ पिंकी भी सपना की भांति सपने में खो गई थी। इतने में शोरूम का गार्ड

जो अन्दर किसी काम से गया था बाहर आ गया। बाहर आकर उसने कबाड़ इकट्ठा करने वाली लड़कियों को शोरूम की ओर निहारते देखा तो यूं लगा जैसे इन्द्र की सभा में अपसराएं नृत्य कर रही हैं और किसी काली बदली ने वहां झांकने की घृष्टता कर दी है। ‘ऐ तुम ... हटो यहां से ... चलो जाओ’ गार्ड जोर से चिल्लाया। सपना और पिंकी को इस तरह के झिड़कियां सुनने की आदत सी पड गई थी। गार्ड को बिना कोई प्रतिक्रिया दिये उन दोनों ने अपने कदम आगे की तरफ बढ़ा दिये थे।

उनके लिए यह कोई नई बात नहीं थी। उनके साथ ऐसा रोज़ नहीं बल्कि दिन में कई बार हो जाता था। पर चूंकि वे भी इन्सान थीं, वे भी सपने देखती थीं। फर्क इतना था कि लोग रात को सपने देखते हैं और वे दिन में भी देखा करती थीं। मैले-कुचैले कपड़े, खिचड़ीनुमा बालों, कंधे पर लटका कपड़ो से मेल खाता झोला और घर से निकलते ही हाथ में एक छोटी-सी राड जिसके सिरे पर शक्तिशाली चुंबक बंधा होता था उसे हाथ में लटकाए गलियों और सड़कों की खाक छाना करती थीं। घूमते घूमते थोड़ी देर में देख लेती थीं कि चुम्बक से लोहे का कितना कबाड़ चिपक गया है। जब चुम्बक भर जाता तो वे उस कबाड़ को अलग कर झोले में डाल लेतीं और फिर आगे बढ़ जातीं। कमाल तो यह है कि वे रोज़ निकलतीं और रोज़ ही उन्हें झोला-भर कबाड़़ मिल जाता।

ज़िन्दगियां रोज़ ही चलती हैं ... कभी पैदल ... कभी साइकिल पर ... कभी बैलगाड़ी पर ... कभी रिक्शा में .... कभी स्कूटर पर ... कभी मोटरसाइकल पर ... कभी कार में ... और न जाने किन किन पर। कभी कभी तो घोड़े की घिसी हुई नाल भी चिपकी हुई मिलती थी। वाहनों में लगे लोहे के पुर्जे जब अपनी जिंदगी जी लेते तो मृत्यु को प्राप्त हो जाते। फिर डाॅक्टरनुमा मिस्त्री उनकी सर्जरी करके नये लोहे के पुर्जे लगा देते। अक्सर दौड़ते भागते वाहनों से कुछ कील और वाशर साथ उनका छोड़ देते और सड़़क पर बिछ जाते। यदि सड़क कोलतार की बनी होती तो गर्मियों में नरम हो जाती और लोहे के टूटे पुर्जे, कील और वाशर कोलतार में ही दफन हो जाते। अब इन्हें कोई तहजीब से तो दफन नहीं करता इसलिए कभी-कभी कील जैसी चीजें मुंह उल्टा करके बड़ी रहतीं और जब कभी कोई टायर इन पर से गुजरता तो इन पर कुर्बान हो जाता। सपना और पिंकी इंसानी स्कैवेंजर थे। जब सारा जहान सो रहा होता तो सपना और पिंकी अपना झोला लेकर सड़कें नापने के लिए निकल जाते।

‘सुबह-सुबह जाने से ज्यादा कबाड़ इकट्ठा होता है और कोशिश किया करो जब सड़कों और बाज़ारों की सफाई होती है उससे पहले ही निकल जाया करो। खासकर उन दुकानों के आसपास जहां साइकिलों की मरम्मत होती है, लेथ मशीनें लगी हैं, स्कूटर-कार ठीक करने वालों की दुकानें हैं, यानि जहां-जहां लोहे से जुड़ा काम होता है, वहां-वहां हमारी रोजी-रोटी मिलेगी’ माता-पिता अनुभव के आधार पर समझाते। कभी कभी तो मुंह-अंधेरे ही दोनों निकल जातीं। उस समय सुनसान सड़कों पर कुत्ते राज़ करते हैं। शुरू शुरू में सपना और पिंकी कुत्तों से डरते थे पर धीरे-धीरे कुत्ते भी उन्हें पहचानने लग गए थे और उन पर नहीं भौंकते थे। जल्दी ही उनके झोले कबाड़ से भर जाते और वे उन्हें लेकर एक बार घर पर वापिस आ जातीं। फिर चाय डबलरोटी खाकर दुबारा निकल जातीं, उनके नसीब में नाश्ते की वैरायटियां नहीं थीं। काम की उनके पास कोई कमी नहीं थी। पैदल चलने से स्वास्थ्य भी ठीक रहता था। पर यह ध्यान रखना पड़ता था कि कहीं पैरों में कोई कील या नुकीली चीज न चुभ जाए जिससे सैप्टिक का खतरा हो जाये। एक बार पैरों में नुकीली चीज चुभ जाने से सपना के पैरों में बहुत खून बहा। तब उसके पिता उसे डाक्टर के पास ले गये और टिटनेस का इंजैक्शन लगवाया था। तब से वे दोनों हर मौसम में सख्त जूते पहन कर ही काम पर जाती हैं।

‘पिंकी ... उस दुकान में सजी हुई लड़कियों की तरह हम भी सज सकतीं क्या ?’ सपना ने पूछा। ‘पागल हो गई है ... अपनी सूरत देखी है ... कभी कोयला घिस कर संगमरमर बना है क्या?’ पिंकी ने पूछा। यह ज्ञान संभवतः उसे अपने समाज में ही मिला होगा। सपना और पिंकी को कई महीनों तक एक ही कपड़े पहने रहना पड़ता। मैले कुचैले कपड़े यदि कहीं से फट जाते तो मां सिल देती थी। यही हाल झोले का होता। ‘सुन पिंकी ... हम कोयला नहीं हैं ... हम तो संगमरमर हैं जिस पर कोयले की कालिख चढ़ गई है। तूने सुना नहीं संगमरमर से बना ताजमहल भी मैला होता जा रहा है। उस संगमरमर की भांति हमारा भी यह हाल हो गया है। कुछ मुश्किल थोड़े ही है। कभी साबुन लगा कर नहा-धो लो तो पता चले। ‘साबुन कहां से लायेंगे ... साबुन खरीदने के लिए एक दिन की दिहाड़ी खर्च हो जायेगी’ पिंकी ने कहा।

‘सुना है अमीर लोग साबुन एक बार इस्तेमाल करके फेंक देते हैं। उनके घर के बाहर जो डस्टबिन लगा होता है उसमें खोजेंगे तो मिल जायेगा। चल, चलकर देखते हैं।’ सपना बोली। ‘चलो’ पिंकी ने कहा और दोनों उस जगह पहुंच गये जहां कोठियां और बंगले थे। वहां कोठियों के बाहर लगे सुन्दर से डस्ट-बिनों में साबुन की तलाश करने लगीं। एक कोठी के बाहर जब वे साबुन की तलाश कर रही थीं तो अन्दर से भारी-भरकम भौंकने की आवाज़ आई। एक बार तो सपना और पिंकी भी डर गईं। अभी तक तो उनका सामना सड़क के कुत्तों से होता था। पर कोठी वालों के कुत्ते शेर से कम नहीं थे। उन्हें साबुन की ललक थी। दरवाज़ा बन्द था। कुत्ता तो बाहर नहीं आ सकता था पर उसके भौंकने से गार्ड जरूर निकल कर बाहर आया और उसने देखा कि दो बालिकाएं डस्टबिन में से कुछ ढूंढ रही हैं। ‘क्या ढूंढ रहे हो बच्चो?’ गार्ड ने पूछा। ‘अंकल, हमने सुना था कोठियों में रहने वाले साबुन को एक बार इस्तेमाल करके फेंक देते हैं तो हम वही ढूंढ रहे थे’ दोनों बोलीं। उनकी हालत और मासूमियत देखकर गार्ड को बरबस हंसी आ गई और बोला ‘रुको तुम यहीं पर’। वह अन्दर गया और पल भर में दो साबुन ले आया। ‘ये लो बच्चो, दो साबुन, अब जाओ, कुत्ता ज्यादा देर तक भौंकता रहेगा तो सब जग जायेंगे और फिर मुझसे पूछताछ होगी। जल्दी जाओ।’ पिंकी और सपना दोनों अपने हाथों में एक एक साबुन लेकर जल्दी से चल दिये। और उनके साथ चल रहा था उनका सपना - संगमरमर से मैल हटाने का।


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें