मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 3, अंक 60, मई(प्रथम), 2019

माता रानी

गरिमा

माता रानी ओ ओ , माता रानी ओ ओ ।। माता रानी शेर पे सवार होकर आई है, ----2 हाथ में भाला, है तलवार भी लाई हैं।। माता रानी ओ ओ , माता रानी ओ ओ ।। माता रानी शेर पे सवार होकर आई है, ----2 भक्तों के कष्ट को मिटाना माता ।। प्यार की वर्षा बरसाना माता ।। सोलह श्रंगार कर माता रानी आई है ।। माता रानी ओ ओ , माता रानी ओ ओ ।। माता रानी शेर पे सवार होकर आई है, ----2 तेरे दर पे आये है , बहुत ही सवाली ।। तेरे दर से कोई भी नही जाता खाली ।। माता रानी भक्तों के दिल पर छाई है । माता रानी ओ ओ , माता रानी ओ ओ ।। माता रानी शेर पे सवार होकर आई है, ----2 हर जगह मंदिरों में दीप को जलाओ ।। खुशियां मनाओ माँ के भजन गाओ ।। माता रानी सँग में शेर को भी लाई है ।। माता रानी ओ ओ , माता रानी ओ ओ ।। माता रानी शेर पे सवार होकर आई है, ----2


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें