Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 36, मई(प्रथम), 2018



अर्थों को क्यूं कोसें


किरण राजपुरोहित ‘नितिला’


 

शब्द पर जो चोला है अर्थ का

अद्र्धांग है

उसका होना न होना 

अच्छा -भला होना 

अर्थ पर निर्भर करता 

पर कोसे जाते हैं सदैव

शब्द 

 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें