Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 36, मई(प्रथम), 2018



घर में रहें राधा डरी डरी


अरुण कान्त शुक्ला


 

 
छोड़ गए बृज कृष्ण, गोपी किस्से खेलें फ़ाग
कहला भेजा मोहन ने, नहीं वन वहाँ, क्या होंगे पलाश?
 
नदियों में जल नहीं, न तट पर तरुवर की छाया
गोपियाँ भरें गगरी सार्वजनिक नल से, आये तो क्यों आये बंसीवाला?
 
घर में रहें राधा डरी डरी, सड़कों पर न कोई उनका रखवाला
अब तो आ जाओ तुम, का न हुई बड़ी देर नंदलाला?
 
मथुरा में था एक ही कंस, बृज में हो गया कंसों का बोलबाला
कब सुधि लोगे श्याम तुम, सुन लो राधा का नाला? 

 
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें