Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 33, मार्च(द्वितीय), 2018



अजय एहसास


इन्सान ही बनना



सबका ही सम्मान तू करना ,
नहीं कभी अपमान तू करना 
हिंदू मुस्लिम बाद में बनना ,
पहले तू इन्सान ही बनना ।
तकलीफ़े न देना किसी को,
कभी किसी को दुखी न करना 
तकलीफों को सदा समझकर,
साथ निभा इन्सान ही बनना ।
बैर की आग बुझाना यारों,
नफरत की न खेती करना ,
अमन चैन खुशहाली लाकर
आप सदा इन्सान ही बनना ।
नहीं कभी धमकाना किसी को
सबको डराकर राज न करना 
सबके दिल पर राज करो तुम ,
ऐसा इक इन्सान ही बनना ।
उलझन तो आते जीवन में,
इनसे नहीं घबराना तुम ,
हर उलझन को खुद सुलझाकर
इक अच्छा इन्सान ही बनना ।
बांटे जो कोई हमको 'एहसास'
धर्म जाति के नारों पर,
लड़ के बिखर के नहीं टूटना ,
हाथ थाम इन्सान ही बनना ।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें