Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 32, मार्च(प्रथम), 2018



फागुन आयो


कवि राजेश पुरोहित


         

अलविदा बसंत
फागुन आयो
रंग बिरंगी
संग होली लायो
चंग ढप ढोल
डफली बजी
ढोल की थाप पर
नाचे नर नार रे
टेसू के फूल खिले
रंग करो तैयार
इन रंगों में छिपा
मधुर प्रेम व्यवहार
होलिका जलेगी
सब होली मनाएंगे
राक्षसी वृतियां जलेगी
होगा पाप का 
धर्म का प्रह्लाद बचेगा
होगी हरि की जयकार
आयो फागुन को त्योहार
मौसम में सूरज की गर्मी
लगती नहीं अब अच्छी
बैठ न पाते कोई धूप में
फागुन की ये गर्मी
लठमार बृज की होली
और बिहारी जी के दर्शन
फागुन की ये रेलमपेल
देखो कैसे कैसे खेल
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें