Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 32, मार्च(प्रथम), 2018



तितली रानी


डॉ. प्रमोद सोनवानी पुष्प


 
    
 
प्यारी - प्यारी तितली रानी ,
लगती सचमुच बड़ी सुहानी ।
रंग - विरंगे पंख है उसके ।
सबको भाती तितली रानी ।।

बगिया में वह जब - जब आती ,
फूलों के संग है मुस्काती ।
पर न जानें हम लोगों से ,
इतना ज्यादा क्यों शरमाती ।।


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें