मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 81, मार्च(द्वितीय), 2020

करता कोई मुझसे नफरत नही है

अजय प्रसाद

खुदा की मुझ पर इनायत यही है करता कोई मुझसे नफरत नही है लाख दर्द मिले हैं दुनिया वालों से मुझे किसी से शिकायत नही है । किसने है किया मेरे हक़ में बुरा याद रखना मेरी रवायत नही है । मिलता हूँ सबसे मुस्कुरा कर मै उदास रहना मेरी आदत नही है । ज़िंदगी मेरी मुझसे रहती खफ़ा है और मौत को मुझसे मुहब्बत नही है ।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें