मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 3, अंक 62, जून(प्रथम), 2019

उम्मीद

सविनय शुक्ल

जटिलता-सरलता के मध्य
त्याग-तपस्या की अनकही सी रातों का
विजयी स्वर,
गुनगुना रहा है,
उम्मीदों की झंकृति के सहारे......

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें