Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 1, अंक 14, जून(प्रथम), 2017



वेदना

संजय वर्मा"दृष्टि "


ना घर ,ना घोसला 
मुंडेरो और कुछ बचे पेड़ों पर 
बैठकर गौरय्या ये सोच रही कि -
इंसानों को रहने के लिए
कुछ तो है मेरे देश मे 
सीमेंट कांक्रीट के मकान होने से 
क्या मेरे लिए कुछ भी नहीं है
मेरे इस देश मे |
ची -ची बोल के 
बुद्दिजीवी इंसानों से 
कह रही हो जैसे
इंसानों के हितो के साथ 
हमारे हितों का भी ध्यान रखो 
क्योकि हम गौरय्या पक्षी है |
कई प्रकार के विकिरण के प्रभाव से
वैसे ही हमारी प्रजाति कम हो रही है
नहीं तो गाते रह जाओगे
" छु न -छु न करती आई चिड़िया 
दाल का दाना ले चिड़िया। ... " 
और यही सवाल अनुतरित बन 
रह जायेगा महज किताबों मे
और नन्हे बच्चों के दिलो में

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें