Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक 41, जुलाई(द्वितीय), 2018



अंतर्मन


रंजन कुमार प्रसाद


     
अंतर्मन की व्यथा हूँ
तुझको मैं सुनाती हूँ
चाह परिंदा उड़ जाने की
अंतर्मन से गाती हूँ।
चाहती हूँ उड़ जाऊ
परिंदा पंख कट जाती है
पपीहा बोलने से पहले ही
बहार लूट ली जाती है।
मेरे से जन्म लिए 
नित नई स्वप्न सजाती हूँ
आशा का महल बनाकर ही
स्वयं पतीत हो जाती हूँ।
ऐसे समाज में जन्म लिए
खुद समझ न पाती हूँ
अपने लोगों का मैं
खुद शिकार हो जाती हूँ।
हमें भला कौन देखता है?
खुद भूखी मैं रहती हूँ
मानव को तृप्त कर मै
खुद तृप्त रह जाती हूँ।
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें