मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 3, अंक 64, जुलाई(प्रथम), 2019

भोला सा बचपन

निशा नंदिनी भारतीय

वो घर से स्कूल स्कूल से घर दौड़ता बचपन पंतग की डोर सा मित्रों से लिपटा बचपन अपना टिफिन भूलकर दूसरे के टिफिन में झांकता बचपन पीछे की बैंच पर बैठकर टीचर की शक्ल बनाता बचपन। टीचर की डांट से घबराकर नित नये बहाने बनाता बचपन एक छोटी सी पेंसिल पर सर्वस्व लुटाता बचपन घर में आते ही बस्ता फेंककर सड़क पर खेलता बचपन पिता के डांटने पर माँ के आंचल में छिपता बचपन। गली मोहल्ले की धूल से श्रृंगार करता बचपन पक्षियों सा पेड़ों पर चढ़कर डाल पर बैठ इठलाता बचपन बारिश के पानी में हिरण सा कुलाचें मारता बचपन मुट्ठी भर चने को बांट कर खाता बचपन गर्मियों की छुट्टियों में नानी के खेतों में हरियाली संग बतियाता बचपन तालाब में नहाता कीचड़ में लोट पोट होता बचपन मकई के खेतों में घुसकर भुट्टे चुराता बचपन याद आते ही गृहकार्य की बहाने खोजता रूआंसा बचपन। न भेद जाति-धर्म का न भेद काले-गोरे का न भेद कद- काठी का न भेद धनी-निर्धन का न जाने कहाँ खो गया वो अरबों खरबों का बचपन अरे कोई लौटा दे निष्पाप, निष्कपट, निश्चल भोला सा बचपन।


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें