Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 53, जनवरी(द्वितीय) , 2019



वन्दे मातरम


नवीन कुमार भट्ट


                	   
राष्ट्र का जयगान वन्दे मातरम।
लाये जाँ मे जान वन्दे मातरम।।
नीर के संग एक होके बोलिये,
राष्ट्र का आराध्य वन्दे मातरम।।
हर गली हर मोड़ पे मैदान पर,
राष्ट्र का पहचान वन्दे मातरम।।
बच्चो की है प्रार्थना ये भोर की,
मत करें अपमान वन्दे मातरम।।
दफ्तरों पे माह पहली तारीखें ,
है कर्तव्य सम्मान वन्दे मातरम।।
देश प्रेम है इसकी धुन पर ही,
मत पाले बेवधान वन्दे मातरम।।
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें