मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 76, जनवरी(प्रथम), 2020

ज़हर मुझे पीना होगा

आलोक कौशिक

वो जो कहते थे कि तुम ना मिले तो ज़हर मुझे पीना होगा खुश हैं वो कहीं और अब तो उनके बगैर ही जीना होगा चोट नहीं लगी है दिल पे चीरा लग गया है मेरे दोस्त सह लूंगा दर्द मगर इस दिल को उनको ही सीना होगा इश्क़ बहुत था उनको हमसे लेकिन मजबूर थे वो लगता है शादियों के संग ही बेवफ़ाई का महीना होगा संभाल कर रखा था हमने उन्हें रूह की गहराइयों में ज़रा सोचो किस अदा से खुद को उन्होंने हमसे छीना होगा अश्क़ आंखों से टपक पड़े गालों पर कल जो देखा उनको और उन्होंने समझा मेरे माथे से लुढ़का पसीना होगा

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें