मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 76, जनवरी(प्रथम), 2020

भावना

सौरभ कुमार ठाकुर

यह देश बल्लभ,गाँधी का है, आजाद जैसे फौलादी का । लक्ष्मीबाई जन्मी यहीं पर, उड़ा था होश फिरंगियों का । धर्म-निरपेक्ष है देश हमारा, भारत है हमको जानो से प्यारा । लोकतांत्रिक है देश हमारा, देश हमारा है सबसे न्यारा । भारत को सर्वश्रेष्ठ बनाना है, सभी अपराधों से मुक्ति पाना है । भारत को शांतिप्रिय बनाना है, सभी देशद्रोहियों को मिटाना है । शहीद हुए वीर भगत सिंह, भारत को स्वतंत्र कराने को । याद रखें हम जज्बा उनका, दुश्मनों के छक्के छुड़ाने को । देश से प्रेम करना सीखें, देश पर जां फिदा करना सीखें, देश का आदर करना सीखें, भारत को सर्वश्रेष्ठ बनाना सीखें ।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें