मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 76, जनवरी(प्रथम), 2020

बेटियों की सुरक्षा

कवि राजेश पुरोहित

आगत का स्वागत नवागत का स्वागत करें। करें विस्मृत अतीत को वर्तमान से सन्तुलन करें।। आँख नम हो गई सुन शहीदों के परिवार की बातें। आओ हम वतन की हिफाजत के रखवालों की बात करें।। दे सके न जान सरहद पर भले ही हम दोस्तों। मगर देश हित छोटे छोटे काम अवश्य शुरू करें।। हम सुभाष आज़ाद भगतसिंह के देश से हैं याद रखो। स्वाभिमान से स्वच्छन्द उड़ने की फिर से बात करें।। बेटियों को बचाने का नारा देकर चुप जो बैठ गए। उनको जगाकर बेटियों की सुरक्षा की बात करें।।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें