मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 76, जनवरी(प्रथम), 2020

तुम्हें ख़बर भी है

डा० डी एम मिश्र

बवंडर उठ रहा है क्या तुम्हें इसकी ख़बर भी है तबाही से डरे हैं लोग घबराहट इधर भी है मेरी मंज़िल मुझे आवाज़ देती है चले आओ उधर है डूबता सूरज इधर धुँधली नज़र भी है समझने बूझने में साल कितने ही गँवा डाले समय है कम हमें मालूम है लंबा सफ़र भी है ज़रा हिम्मत तो देखो अब सहारा वो मुझे देगा अभी कमसिन बहुत उसकी बड़ी पतली कमर भी है वहाँ खेती नहीं करता कोई खाता मगर अच्छा हमारे गाँव से कुछ दूर पर ऐसा नगर भी है बड़ी मीठी जुबाँ वाला मुझे इन्साँ मिला कोई मगर जब दिल खँगाला उसका तो निकला ज़हर भी है

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें