Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 55, फरवरी(द्वितीय) , 2019



खुशियां इतनी भी मुश्किल न हो


आलोक कौशिक


 
तन्हाई किसी की मुस्तकबिल न हो
खुशियां इतनी भी मुश्किल न हो

और पाने की आशा हो
अंतिम लक्ष्य हासिल न हो

प्यार तो सच्चा हो
लेकिन उसकी मंजिल न हो

प्रेम में डूबा हो
स्नेह-सरिता का साहिल न हो

मन में समर्पण हो
महबूबा संगदिल न हो

ज्ञान का भंडार हो
पर मानव जाहिल न हो

उससे भी प्यार हो
जो उसके काबिल न हो
	 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें