मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 78, फरवरी(प्रथम), 2020

गणतंत्र पर्व मनाओ

सुनील पोरवाल "शेलु"

गणतंत्र दिवस का पर्व है प्यारा, आओ हम आव्हान करें | जनहित का कल्याण करे जो, उसका हम सम्मान करें!! संविधान की रक्षा करना, धर्म सभी का बनता है | बड़ा-छोटे सब एक समान, सब भारत की जनता है!! चाहे प्राण हो न्यौछावर, देश की रक्षा ना छोड़े | बलिदानों की भूमि है भारत, इससे रिश्ता ना तोड़े!! माँ है प्यारी भारती, धरा है म्हारी हिंद | "शेलु" गणतंत्र पर्व मनाओ, लाज राखे गोविंद!!

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें