मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 78, फरवरी(प्रथम), 2020

आखिर इशारा क्या है?

राजू पाण्डेय

बहुमंजिला इमारतें फ्लाईओवर के ऊपर फ्लाईओवर 40 वीं मंजिल से झांकती आंखे कीड़ों के झुंड सी लगती भागती कारें आखिर इशारा क्या हैं? बड़ी सी फैक्टरी में ऊँची ऊँची चिमनियों से काले बादलों की तरह उड़ता धुँवा एयर क्वालिटी चेक करती इलेक्ट्रॉनिक मशीनें आखिर इशारा क्या हैं? बड़ी बड़ी कोठियों में मखमली गद्दों में लिपटे ब्रूनो, डीजल, टाइगर इधर नंगे फुटपाथ पर कुछ पुराने चीथड़ों में सिकुड़ते बच्चें आखिर इशारा क्या हैं? होड़ परमाणु बम की मिसाइलें उड़ती हुई सेनाएँ अलग देशों की अभ्यास करती हुई सीमाओं पर लड़ते होते "राजू" शहीद फौजी आखिर इशारा क्या हैं?


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें