Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 54, फरवरी(प्रथम) , 2019



दुपहरी


सत्येन्द्र बिहारी


 
अनल अम्बर झरता ज्येष्ठ की दुपहरी
उष्ण वातावरण तप्त तवा सी धरणी
व्याकुल पखेरू पशु जन लू समीरणी
पाषाण खंडों को तरासती बैठ दुपहरी।

चिलचिलाती धूप में बहती उर नालिका
टप-टप स्वेदबूंद कपोलों से चूमती वसुधा
बार - बार चोट करती आकार लेती मुरती
स्वेत रमणी लिपटी स्याम पट विसारती दुपहरी।

रजत काया दाह वश स्याम वर्णी बन पड़ी
अतृप्त तृष्णा तैरती अवनालिका अधरों पर
एक टक निहारती शून पड़े कमंडलो पर
अदृश्य ओझल कोई दिखता नहीं दुपहरी।

चल पड़ी नग्न - पाद तप्त पाषाण पर
भूल गई पीर को नीर की आस पर
पावों में पड़ गयी  कोपलों सी लाली
क्षुब्ध -क्षुधा शांत नदी नीर स्वर्णिम दुपहरी।

फिर एक बार जुटी कर्म को तरासती
काटती तरासती  पाहन मूरत को सवारती
सवार नहीं पाती ना लिखे भाग को मिटाती
रैन चैन दिन दैन बीत रही ज्येष्ठ की दुपहरी।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें