Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 51, दिसम्बर(द्वितीय) , 2018



सैनिकों आगे बढ़ो


मुकेश कुमार ऋषि वर्मा


   
जागो-जागो वीर जवान 
तुम्हीं  हो  देश की शान 
शत्रु पर करो तेज प्रहार 
निश्चित शत्रु की हो हार
समझौते  की बात न करना 
क्षमादान सा काम न करना 
शत्रु बड़ा नीच पल्टी मारेगा 
भारतभू जीतकर भी हारेगा
गौतम - गाँधी शान हमारी 
सुभाष- भगत जान हमारी 
अहिंसा की राह हमने चुनी 
खेल  वो खेल रहा है खूनी
हम शेर हैं, करते शेरों से काम 
वो गीदड़,करे गीदड़ों के काम 
लेकर आतंकवाद  का सहारा 
बन बैठा मानवता का हत्यारा
हे वीर !  सैनिकों आगे बढ़ो 
तुम  शत्रु की छाती पर चढ़ो 
बन गये जो भारतमाँ पे भार 
तुम दो अब उन सबको मार 		 
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें