Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 51, दिसम्बर(द्वितीय) , 2018



स्कूल का मजा


प्रिया देवांगन " प्रियू"


    
छोटे छोटे बच्चे को देखो।
सुबह सुबह से स्कूल है जाते।।
गरम गरम पानी में नहा के।
जल्दी से तैयार हो जाते।।
इतनी ठंडी में भी सुबह सुबह स्कूल जाते।
कोई बच्चे रो रहे हैं कोई गाना है गाते।।
किट किट दाँत कापे, सर सर हवा चले।
स्वेटर जैकेट पहन के बच्चे स्कूल को चले।।
 सुबह सुबह से रिक्शा वाला ।
घर पर आ के खड़े हो जाते।।
गुड़िया रानी जल्दी से आओ।
रिक्शा वाला रोज चिल्लाते।।
मम्मी जल्दी भर दो टिफिन डिब्बा।
चिंटू मिंटू आवाज लगाते।।
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें