मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 73, नवंबर(द्वितीय), 2019

छंद परिवार द्वारा दीपावली मिलन एवं कवि सम्मेलन संपन्न

रायपुर -- छत्तीसगढ़ी भाषा साहित्य के लिए समर्पित साहित्यक परिवार "छंद के छ" का राज्य स्तरीय छंदमय कवि सम्मेलन और दीपावली मिलन कार्यक्रम का आयोजन विगत दिनों मंगल भवन चंद्राकर छात्रावास महादेव घाट रोड डंगनिया रायपुर में हुआ । छंद के छ के संस्थापक छंदविंद गुरुदेव श्री अरुण कुमार निगम के मार्गदर्शन , श्री बलराम चंद्राकर जी और श्री सूर्यकांत गुप्ता जी के संयुक्त संयोजन तथा डॉ मीता अग्रवाल और स्थानीय छंद साधकों के सहयोग से आयोजित इस खास आयोजन के मुख्य अतिथि रहे डॉ केशरी लाल वर्मा कुलपति पं रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, रायपुर, अध्यक्षता श्री श्याम बैस जी पूर्व अध्यक्ष छ ग राज्य बीज विकास निगम और विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहे श्री लखन लाल मौर्य सहायक निदेशक (कार्यक्रम) आकाशवाणी रायपुर, श्री सुधीर शर्मा जी हिन्दी विभागाध्यक्ष कल्याण कालेज भिलाई, श्री श्याम वर्मा जी वरिष्ठ उदघोषक आकाशवाणी रायपुर थे ।

इस मौके पर स्वागत भाषण के बाद काव्य पाठ का दौर शुरु हुआ । पूरे छत्तीसगढ़ प्रदेश से लगभग 20 जिलों से राजधानी पहुँचे 60 से अधिक छंद साधक कवियों द्वारा छंद बद्ध रचनाओं का लयबद्ध प्रस्तुति दी गई । कवियों ने दोहा , रोला, सोरठा,कुण्डलियाँ, सार छंद, सरसी छंद, लावणी छंद, आल्हा छंद आदि छंदों में प्रस्तुति देकर सबके मन को मोह लिया । दर्शकगण इसका खूब आनंद उठाये और भूरी भूरी प्रशंसा किये। सभी ने कहा कि अन्य कवि सम्मेलनों से यह "छंद के छ' का सम्मेलन बहुत ही अनूठा और प्रशंसनीय है ।

यह व्याकरण सम्मत रचना छत्तीसगढ़ी भाषा को मजबूत करने और प्रदेश को पहचान बनाने में मजबूती प्रदान करेगा ।

इस कार्यक्रम में महेन्द्र देवांगन "माटी" , ज्ञानुदास मानिकपुरी, बोधन निषाद, ओमप्रकाश दिवाकर, द्वारिका लहरे, अश्वनी कोसरे, देवचरण ध्रुव, अजय अमृतांशु, मणिराम राम साहू, ईश्वर साहू, डॉ तुलेश्वरी धुरंधर , केवरा यदू, सुधा शर्मा, शोभा मोहन श्रीवास्तव आदि उपस्थित थे ।

यह जानकारी महेन्द्र देवांगन माटी ने दिया है ।


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें