मुखपृष्ठ
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
Sahityasudha
वर्ष: 4, अंक 74, दिसम्बर(प्रथम), 2019

प्रकृति से प्यार

गरिमा

प्रकृति कुछ कहना चाहती है मुझसे, हवा की सरसराहट कुछ कहना चाहती है मुझसे, पक्षियों की चहचहाहट कुछ कहना चाहती है मुझसे, बारिश का उल्लास वातावरण, बातें करते हैं मुझसे, चांदनी रात का मदमस्त वातावरण, कुछ कहना चाहता है मुझसे, चांदनी की शीतलता मुझे सुकून देती है। सूरज के ताप हमेशा हौसला देता है, प्रकृति में बहुत कुछ सिखाया है मुझको, नदियों ने शांत रहना सिखाया है मुझको, समुंदर में शोर करना सिखाया है मुझको, हवा में मधुरता सिखाई है हम मुझको, तूफानों ने लड़ना सिखाया है मुझको, प्रकृति बहुत कुछ सिखाती है मुझको, प्रकृति और जीवन में बहुत समानता है। प्रकृति हमें लड़ना सिखाती है, जीवन में जीना सिखाता है ‌। प्रकृति कुछ कहना चाहती है मुझसे।।


कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें