Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 50, दिसम्बर(प्रथम) , 2018



वो जब से लौट आए से मेरे शहर में


सलिल सरोज


 
वो जब से लौट आए से मेरे शहर में
दिन में ईद,रात में दिवाली हो गई है

उनके आने की खबर की ये तासीर है
खेत-खलिहान,नदी,पर्वतों में खुशहाली हो गई है

वो जो निकले हैं सँवर के मेरे छत पे
तो अमावस भी तारों वाली हो गई है

अपने होंठों से जो चूमा उन्होनें हवाओं को तो
आसमाँ के गालों पे हया की लाली हो गई है

तुम आई हो तो ये बरसातें भी लौट आई हैं
तुम्हें सराबोर करने को मतवाली हो गई हैं

शायद रब को भी था तुम्हारे आने का इंतज़ार ,तभी
मंदिरों में आरती और मस्जिद में कव्वाली हो गई है 
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें