Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 50, दिसम्बर(प्रथम) , 2018



एकटक देखती


डा.दयाराम


 
राजमार्ग
पर खड़ी
आसमान की ओऱ
एकटक देखती है
धनिया !
कि
कभी न कभी
राजमार्ग का वैभव
सटकर लगे मेरे खेत में
सरपट दौड़ती पगडण्डी से
गुजरते हुए
कच्चे घर की
चैखट पर
कदम रखेगा।
 

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें