Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 3, अंक 43, अगस्त(द्वितीय) , 2018



राखी पर हाइकु


कमला घटाऔरा


  
1.
रक्षा बंधन प्रतीक्षा रत राखी पथ निहारे ।
2.
न्यारा त्योहार चमका मुख चन्द्र पधारा भाई ।
3.
करूँ आरती लगा टीका अक्षत बांध के राखी ।
4.
कच्चे ये तार सच्चे ,सुच्चे ,सात्विक तोड़े न टूटे ।
5.
करे श्रृंगार भइया की कलाई बहना हाथों ।
6.
मिला जो भाई खुशियाँ इठलाई बहना हर्षी ।
7.
आशीष देते पूनम चाँद तारे बहना संग ।
8.
बाँधू सुरक्षा सदा तेरी कलाई तुझ सा तू ही ।
9.
दूर या पास रहूँ दिल में तेरे दुआ बनके ।
10.
प्यार महका बहना लाई गूँथ चंदन राखी ।
11.
रेशमी सूत्र बंधा जो एक बार रहे अटूट ।
12.
प्रभु कृपी सी सौगात , मैया मैंने बहना पाई ।

कृपया रचनाकार को मेल भेज कर अपने विचारों से अवगत करायें