Sahityasudha view
साहित्यकारों की वेबपत्रिका
मुखपृष्ठ


साहित्यकारों की रचना स्थली

वर्ष: 2, अंक19, अगस्त(द्वितीय ), 2017



तेरी चाहत


सुशील शर्मा


 		 
प्यार की राह में उम्र जलती रही।
दिन पिघलते रहे रात ढलती रही।
हर समय हर जगह मन मे तू ही रहा।
न ही मन कह सका न जुबाँ ने कहा।
जिस्म बिंधते गए रिश्ते सजते गए।
रूह घायल हुई हम सिसकते गए।
मेरा जिस्म मेरी रूह का जनाजा बना।
दिल तड़पता रहा तेरे प्यार से सना।
रिश्ते सजते गए हम सिमटते गए।
जमाने की चाहत में हम मिटते गए।
खुद को आईने में हमने तलाशा बहुत।
खुद को देखा तो पाया एक पत्थर का बुत।
उम्र ढलती रही जिंदगी पिघलती रही।
तेरी चाहत सदा दिल में संवरती रही।
तेरा जिस्म एक ख्वाब सा सुलगता रहा।
तेरा प्यार फूल बनकर महकता रहा।
  

कृपया अपनी प्रतिक्रिया sahityasudha2016@gmail.com पर भेजें